साहिर लुधियानवी ने शब्दों में छिपे गहरे दार्शनिक विचारों को सरल शब्दों में व्यक्त किया: नसरीन मुन्नी कबीर

कोलकाता 8 जनवरी 2021: साहिर लुधियानवी के सुनहरे युग के गीत ‘ मन रे तू काहे न धीर धरे ‘ कोविड-19 के समय में हमारे जीवन की वास्तविकता और भावनाओं को दर्शाता है। साहिर को हिंदी और उर्दू में महारत हासिल थी। उन्होंने सरल शब्दों के अंदर छिपे गहरे दार्शनिक विचारों से अवगत कराया। कोलकाता की सुप्रसिद्ध सामाजिक संस्था प्रभा खेतान फाउंडेशन द्वारा आयोजित ऑनलाइन सत्र ‘टेट-ए-टी’ की श्रृंखला में वह ब्रिटेन के टेलीविजन निर्माता, निर्देशक और लेखक नसरीन मुन्नी कबीर ने जानेमाने पत्रकार और फिल्म समीक्षक नम्रता जोशी के साथ एक ऑनलाइन सत्र में बातचीत के दौरान अपनी यादों को ताजा किया। वर्ष 2021 में कवि-गीतकार साहिर लुधियानवी का जन्म शताब्दी के तौर पर मनाया जा रहा है।

इस आकर्षक सत्र में लॉगइन कर देशभर से बुक लवर्स इसमें शामिल हुए। यह सत्र बॉलीवुड के प्रतिष्ठित गीतकार और यातना के कवि, साहिर लुधियानवी पर केंद्रित था, जो 8 मार्च, 1921 को विभाजन के बाद लुधियाना में पैदा हुए थे और लाहौर से दिल्ली आए थे। साहिर के हिंदी फ़िल्मी गाने आज भी काफी लोकप्रिय हुए हैं। आज की पीढ़ी के दिमाग में इसकी गूंज अब भी पूरी तरह से तरोताजा है।

नसरीन मुन्नी कबीर पांच दशकों से विदेशों में भारतीय फिल्मों का प्रचार कर रही हैं। वह अबतक बॉलीवुड के दिग्गजों को लेकर 100 से अधिक कार्यक्रम और फिल्में बना चुकी हैं। यही नहीं, अबतक वह बॉलीवुड आइकन पर 20 से अधिक किताबें भी लिख चुकी हैं। उनकी नवीनतम पुस्तक “इन द ईयर ऑफ साहिर 2021 डायरी” है, प्रभा खेतान फाउंडेशन की तरफ से देशभर के 35 शहरों में सक्रिय ‘अहसास महिला’ के सहयोगियों को इस अनूठी डायरी को उपहार में दिया गया है।

नम्रता जोशी के सवाल के जवाब में, आपने साहिर की खोज कैसे की? नसरीन ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो यह मेरे अंदर की प्यास थी। सिनेमा लंदन में दिखायी गयी थी और गाने यहां के थे। इसमें उर्दू कठिन थी इसलिए मुझे उनकी बातों का पूरा मतलब समझ नहीं आया। मुझे लगता है कि वह एक रोमांटिक शब्द होगा, लेकिन उसके नीचे उदासी की एक परत है जिसने मुझे सोचने को मजबूर कर दिया है। उन्होंने बहुत ही सरल और प्रभावी शब्दों में एक दुखद अंत का भावनाओं के साथ वर्णन किया। वे खुश गाने से नहीं हैं, बल्कि मुझे लगता है कि रोमांटिक गाने जो हमें याद हैं, वे सबसे दुखद हैं। जब हम दुखी होते हैं, तो हम उदास गाने सुनते हैं न कि डिस्को गाने। वह वास्तव में ऐसे लोगों से जुड़ता है जो समझदार हैं और दुनिया के बारे में परवाह करते हैं लेकिन रोमांस के विचार में हमेशा उदासी की भावना रखते हैं। ”

साहिर के बोल क्या हैं, इस पर टिप्पणी करते हुए नासिर ने कहा, उस दौर के अधिकांश उर्दू कवियों को पैसा कमाने के लिए फिल्मों में काम करना पड़ता था क्योंकि प्रकाशन इतना पैसा नहीं दे पाता था । साहिर ने अर्नोल्ड भाइयों और चेतन आनंद के साथ काम किया। देव आनंद और सचिन देव बर्मन जैसे युग के शीर्ष लोगों के साथ, जो बहुत शिक्षित और परिष्कृत थे। उन्हें अपने गीतों को काफी कम स्वर में गाना पसंद था।

उनके लिए सबसे मुश्किल बात सभी से आवेदन करना था। साहिर को पता था कि भाषा का इस्तेमाल कैसे और किस संदर्भ में किया जाता है। उन्होंने चरित्र को भी जाना और एक विशेष फिल्म के चरित्र के अनुरूप कविता और गीत लिखे।

  

नसरीन ने कहा- उनका मानना है कि एक फिल्म एक टीम द्वारा बनाई जाती है, न कि केवल एक निर्देशक द्वारा। हिंदी सिनेमा में यह सोच आगे नहीं बढ़ सकी है, क्योंकि फिल्म के निर्माण में विभिन्न टुकड़े और छोटी-छोटी टीमें बनी हुई हैं, लेकिन निर्देशक प्रत्येक खंड के लिए सही व्यक्ति का चयन करता है और साहिर लुधियानवी ने अबतक हमेशा उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने की कोशिश किये हैं। इसके कारण उनके इस अथक प्रयास से वह आज अलग तरीके की इस मुकाम पर हैं।

Print Friendly, PDF & Email

By admin